नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

असली बात

शहर में फसाद हुए आज पहला ही दिन था। हिंदू-मुसलमान मोहल्लों के बीच तमतमाती हवा बह रही थी। प्रशासन ने…

क्रांतिकारी
Getty Images Mondadori Portfolio

क्रांतिकारी

सन 1919। वह इटली में रेल से सफर कर रहा था। पार्टी हेडक्वार्टर से वह मोमजामे का एक चौकोर टुकड़ा…

युगल स्वप्न

'युगल स्वप्न' - बनफूल सुधीर आया है। उसके हाथ में रजनीगन्धा का एक फूल है- डण्ठल सहित। आँखों में चमक,…

चकरघिन्नी

'चकरघिन्नी' - नूर ज़हीर वो दुबकी हुई एक कोने में बैठी थी, लेकिन ज़किया को बराबर यह एहसास हो रहा…

नीच

'नीच' - रज़िया सज्जाद ज़हीर शामली को देख कर सुलताना को लकड़ी के उन बेढंगे टुकड़ों का ख़याल आ जाता था…

बिंदा

'बिंदा' - महादेवी वर्मा भीत-सी आँखोंवाली उस दुर्बल, छोटी और अपने-आप ही सिमटी-सी बालिका पर दृष्टि डाल कर मैंने सामने…

भिखारिन

'भिखारिन' - जयशंकर प्रसाद  जाह्नवी अपने बालू के कम्बल में ठिठुरकर सो रही थी। शीत कुहासा बनकर प्रत्यक्ष हो रहा था। दो-चार…

साँवली मालकिन

'साँवली मालकिन' - इ हरिकुमार (रूपांतरण: पूर्णिमा वर्मन, रीना तंगचन) हर रोज़ झोपड़ी के चबूतरे पर बैठी हुई सुलू पिता…

दुःख का अधिकार

'दुःख का अधिकार' - यशपाल मनुष्यों की पोशाकें उन्हें विभिन्न श्रेणियों में बाँट देती हैं। प्रायः पोशाक ही समाज में…

हींगवाला

'हींगवाला' - सुभद्राकुमारी चौहान लगभग पैंतीस साल का एक खान आंगन में आकर रुक गया। हमेशा की तरह उसकी आवाज…

वो

'वो' - विजय शर्मा वो यूँ तो बेहद आम सा दिखने वाला लड़का था, लेकिन दिलो- दिमाग़ के जद्दो जहद…

Close Menu
error: