‘रस की अनोखी लहरें’ – मीराजी

मैं ये चाहती हूँ कि दुनिया की आँखें मुझे देखती जाएँ यूँ देखती जाएँ जैसे
कोई पेड़ की नर्म टहनी को देखे
लचकती हुई नर्म टहनी को देखे
मगर बोझ पत्तों का उतरे हुए पैरहन की तरह सच के साथ ही फ़र्श पर एक मसला हुआ
ढेर बन कर पड़ा हो
मैं ये चाहती हूँ कि झोंके हवा के लिपटते चले जाएँ मुझ से
मचलते हुए छेड़ करते हुए हँसते हँसते कोई बात कहते हुए लाज के बोझ
से रुकते रुकते सँभलते हुए रस की रंगीन सरगोशियों में
मैं ये चाहती हूँ कभी चलते चलते कभी दौड़ते दौड़ते बढ़ती जाऊँ
हवा जैसे नदी की लहरों से छूते हुए सरसराते हुए बहती जाती है रुकती
नहीं है
अगर कोई पंछी सुहानी सदा में कहीं गीत गाए
तो आवाज़ की गर्म लहरें मिरे जिस्म से आ के टकराएँ और लौट जाएँ ठहरने न पाएँ
कभी गर्म किरनें कभी नर्म झोंके
कभी मीठी मीठी फ़ुसूँ-साज़ बातें
कभी कुछ कभी कुछ नए से नया रंग उभरे
उभरते ही तहलील हो जाए फैली फ़ज़ा में
कोई चीज़ मेरे मसर्रत के घेरे में रुकने न पाए
मसर्रत का घेरा सिमटता चला जा रहा है
खुला खेत गंदुम का फैला हुआ है
बहुत दूर आकाश का शामियाना अनोखी मसहरी बनाए रसीले इशारों से बहका रहा है
थपेड़ों से पानी की आवाज़ पंछी के गीतों में घुल कर फिसलते हुए अब निगाहों से ओझल हुई जा रही है
मैं बैठी हुई हूँ
दुपट्टा मेरे सर से ढलका हुआ है
मुझे ध्यान आता नहीं है मिरे गेसुओं को कोई देख लेगा
मसर्रत का घेरा सिमटता चला जा रहा है
बस अब और कोई नई चीज़ मेरे मसर्रत के घेरे में आने न पाए

■■■

चित्र श्रेय: Aditya Saxena


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण

‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे दूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे जबकि Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ Read more…

error:
%d bloggers like this: