‘रोकना है न!’ – पी. एस. रामानुजम्

(रूपान्तर: बी. आर. नारायण)

कितनी बसी है रक्त की बास इस धरती में
कितने लोग मरे, कितने लोग रोये
दुर्दैव है यह, आश्चर्य है यह
तब भी धरती घूमती ही रही
क्षण भर को भी भूलकर रुकी नहीं
भूमि त्यागने वाले उन अनन्त जीवों के लिए
एक क्षण का मौन भी
नहीं रक्खा गरजते सागर ने
दहाड़ती आँधी ने;
क्षण भर को रुके नहीं सूर्य चन्द्र
भूमि से उठे घोर क्रन्दन को सुनकर भी
लोकान्तरों से बात बात पर पुष्पवृष्टि
करने वाले गन्धर्व, किन्नर, देवताओं ने
झाँका तक नहीं उस ओर
सर्व अन्तर्यामी कहाने वाले
उस भगवान ने भी चूँ तक नहीं की
बहती रही रक्तधार निरन्तर
बहती चली दूसरे नदी-नालों के संग
समुद्र की ओर- सागरं प्रति गच्छति सा
ऐसे ही बहती रही तो मुझे है डर
रुद्र समुद्र में कहीं न आ जाय प्रलयंकारी ज्वार
हमारी सदानीरा नदियाँ ही चाहिए हमें
जीवों के रक्त की नदियाँ नहीं चाहिए हमें
रोकनी हैं न ये रुधिर की लाल नदियाँ!
पोंछनी है न हमें मृतकों, जन्मदाताओं की अश्रुधाराएँ!

■■■

चित्र श्रेय: Lakshman Kabadi


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण

‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे दूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे जबकि Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ Read more…

error:
%d bloggers like this: