‘समाज’ – पुनीत कुसुम

कल एक प्राणी से मुलाक़ात हुई
जब मैंने उससे उसका नाम पूछा
तो वह बोला- ‘समाज’
प्राणी इसलिए कहा
क्योंकि उसकी शक्ल और हरकतें
मानवों से तो नहीं मिलती थीं
संवेदनाओं से शून्य था
मान्यताओं से बेशर्म

देह भी उसने कुछ अजीब सी पायी थी
सारे शरीर पर केवल मुँह ही मुँह थे
कान नहीं थे, दो मुँह थे
कुछ भी सुनता नहीं था
आँखें नहीं थी, दो और मुँह थे
कुछ भी देखता नहीं था
हाथ नहीं थे, उनकी जगह भी मुँह थे
कुछ भी करता नहीं था
यहाँ तक कि उसकी टांगों के बीच भी केवल एक मुँह ही था
तभी तो उसके दो बेटे
जो रूढ़ियों के प्रसव से पैदा होकर
प्रतिष्ठाओं के पालने में पले हुए थे
दो भाषण सरीखे खड़े थे
नवसंस्कृति की नींव में स्तम्भ बनने
और मुझ जैसे मूल्यहीन इंसान को
अपने नीचे दबा देने को आतुर

मैंने मुँह फेर लिया
मेरे पास केवल एक ही मुँह था
जिससे मुझे कविताएँ सुनानी थीं..।

■■■

चित्र श्रेय: Joanjo Pavon


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

सिन्धी कविता: ‘कौन है’ – नामदेव

‘कौन है’ – नामदेव कौन है जो बन्दूक की नली से गुलाब को घायल कर रहा है? कौन है जो बन्सरी की चोट से किसी का सर फोड़ रहा है? कौन है जो बाल-मन्दिर की Read more…

कविताएँ | Poetry

नज़्म: ‘रस की अनोखी लहरें’ – मीराजी

‘रस की अनोखी लहरें’ – मीराजी मैं ये चाहती हूँ कि दुनिया की आँखें मुझे देखती जाएँ यूँ देखती जाएँ जैसे कोई पेड़ की नर्म टहनी को देखे लचकती हुई नर्म टहनी को देखे मगर Read more…

कविताएँ | Poetry

ख्यालों को बहने दो, बनके नदिया..

मुदित श्रीवास्तव की कविताएँ मुदित श्रीवास्तव भोपाल में रहते हैं। उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और कॉलेज में सहायक प्राध्यापक भी रहे हैं। साहित्य से लगाव के कारण बाल पत्रिका ‘इकतारा’ से जुड़े Read more…

error:
%d bloggers like this: