जब भी सोचा
अपनी किसी कविता में
तुम्हें लिखूँ
तुम्हारी और मेरी भिन्नता
कलम और कागज़ के बीच
एक बाधा बन खड़ी रही

कोई भी विचार
जो खुद को
तुम-सा सोचकर नहीं लिख पाया
निरर्थक लगा

कोई भी पंक्ति
जो एक वृत्त की परिधि में
ढलती नज़र नहीं आयी
अधूरी छोड़ दी

मुझे और तुम्हें
पृथक करता अल्पविराम
दर्पण का रूप न ले सका
तो शब्दों के बीच के ठहराव
नकार दिए मैंने

मैं अपनी परिभाषा
तब तक बदलता रहा
जब तक मेरा कथ्य
तुम्हें परिभाषित करते किसी छंद के साथ
कोरस न गाने लगे

अगर वार्तालाप
दो हृदयों में होता सम्भोग है
तो इस कविता के
सारे उपमान
और सभी प्रतीक
तभी सार्थक होंगे
जब तुम्हारे और मेरे
मन के भाव
समलैंगिक हों..।


Link to buy the book:

पुनीत कुसुम
पुनीत कुसुम

कविताओं में खुद को ढूँढती एक इकाई..!

All Posts

Subscribe here

© 2018 पोषम पा ALL RIGHTS RESERVED | ABOUT | CONTACT | PRIVACY POLICY | TERMS OF USE

Don`t copy text!