वह अपने घर का तमाम जरूरी सामान एक ट्रक में लादकर दूसरे शहर जा रहा था कि रास्ते में लोगों ने उसे रोक लिया।

एक ने ट्रक के माल-असबाब पर लालचभरी नजर डालते हुए कहा- “देखो यार, किस मजे से इतना माल अकेला उड़ाए चला जा रहा है!”

असबाब के मालिक ने मुस्कराकर कहा- “जनाब, यह माल मेरा अपना है।”

दो-तीन आदमी हँसे- “हम सब जानते हैं।”

एक आदमी चिल्लाया- “लूट लो… यह अमीर आदमी है… ट्रक लेकर चोरियाँ करता है…!”