Evil, Bad

शोषक रे अविचल!

शोषक रे अविचल!

शोषक रे अविचल!
अजेय! गर्वोन्नत प्रतिपल!
लख तेरा आतंक त्रसित हो रहा धरातल!

भार-वाहिनी धरा,
किन्तु तुमको ले लज्जित!
अरे नरक के कीट!, वासना-पंकनिमज्जित!

मृत मानवता के अधरों पर,
मृत्यु-झाग से!
वसुंधरा पर कौन पड़े, तुम शेष नाग से!

वसुधा के वपु पर रे!
कलुष दाग तुम निश्चल!
शोषक रे! दुर्दांतदस्यु!, गर्वोन्नत प्रतिपल!