सॉरी

छुरी पेट चाक करती हुई नाफ के नीचे तक चली गई।

इजारबंद कट गया।

छुरी मारने वाले के मुँह से पश्चात्ताप के साथ निकला- “च् च् च्… मिशटेक हो गया!”

रियायत

“मेरी आँखों के सामने मेरी बेटी को न मारो…”

“चलो, इसी की मान लो… कपड़े उतारकर हाँक दो एक तरफ…”

■■■