सूफ़ियों में हूँ न रिन्‍दों में, न मयख़्वारों में हूँ

सूफ़ियों में हूँ न रिन्‍दों में, न मयख़्वारों में हूँ,
ऐ बुतो, बन्‍दा ख़ुदा का हूँ, गुनहगारों में हूँ!

मेरी मिल्‍लत है मुहब्‍बत, मेरा मज़हब इश्‍क़ है
ख़्वाह हूँ मैं क़ाफ़िरों में, ख़्वाह दीं-दारों में हूँ

नै मेरा मूनिस है कोई, और न कोई ग़म-गुसार
ग़म मेरा ग़मख़्वार है, मैं ग़म के ग़मख़्वारों में हूँ

जो मुझे लेता है, फिर वह फेर देता है मुझे
मैं अजब इक जिन्‍स नाकारा ख़रीदारों में हूँ

ऐ ज़फ़र मैं क्‍या बताऊँ तुझको, जो कुछ हूँ सो हूँ
लेकिन अपने फ़ख़्रे-दीं के कफ़श बरदारों में हूँ..

■■■