‘स्वयं हेतु’ – रिया जैन

(अनुवाद: पुनीत कुसुम)

रिया अंग्रेज़ी कविताएँ लिखती हैं और अपनी उम्र की भावनाएँ और असमंजस बड़े सुलझे हुए शब्दों में उकेरती हैं। मैंने यह कविता रिया के ब्लॉग The Scribbling Girl पर पढ़ी थी और चूंकि हिन्दी में ज़्यादा पढ़ता हूँ तो सोचने लगा कि रिया के ये ख़्याल हिन्दी में ढलकर क्या रूप लेंगे! यह बात रिया को बतायी और परिणाम आपके सामने है। यह कविता अंग्रेज़ी में यहाँ पढ़ी जा सकती है।

एक
मैं अपनी डायरी में कुछ बेतरतीब शब्द लिखती हूँ
और कहती हूँ उसे बाइबिल
जिसमें ‘प्रेम’ अन्तिम शब्द है

दो
‘यकीन’ जैसे शब्दों के नीचे मैं लिखती हूँ तुम्हारा नाम
मैं नहीं चाहती तुम यकीन करना छोड़ दो
ऐसे प्रत्येक शब्द के तले, अंकित है-
“टूटे भरोसे फलते हैं और अधिक प्रेम में..”

तीन
अब पता है मुझे कि क्यों तुम मेरी डायरी का अन्तिम शब्द कभी नहीं पढ़ पाते
तुम अनजान हो इसके अर्थ से
मैं चाहूँगी अनजान ही रहो
इसीलिए नीचे प्रेम के, लिख देती हूँ- ‘पीर’

चार
बाइबिल अब एक टूटे भरोसों की किताब है
मैं बहुत ज़्यादा और तुम कुछ भी नहीं जानते इसके बारे में
क्योंकि तुम्हारे साथ बिताए गए वक़्त में
मेरे यकीन टूटते रहे
तुम्हारे, अक्षुण्ण

पाँच
मैं करती हूँ दुआ
और लिखती हूँ ‘उम्मीद’
कौन कहता है प्रेम केवल एक बार होता है

छः
देखो मुझे मिल गया
अपनी डायरी के आख़िरी पन्ने पर
मेरी उखड़ती चमड़ी
और टूटे पिंजर के नीचे
उम्मीद की ओट में मैंने लिख छोड़ा था- ‘स्वयं हेतु’

■■■

चित्र श्रेय: Amy Treasure