रिया अंग्रेज़ी कविताएँ लिखती हैं और अपनी उम्र की भावनाएँ और असमंजस बड़े सुलझे हुए शब्दों में उकेरती हैं। मैंने यह कविता रिया के ब्लॉग The Scribbling Girl पर पढ़ी थी और चूंकि हिन्दी में ज़्यादा पढ़ता हूँ तो सोचने लगा कि रिया के ये ख़्याल हिन्दी में ढलकर क्या रूप लेंगे! यह बात रिया को बतायी और परिणाम आपके सामने है। कविता पसन्द आए तो बधाई रिया के ब्लॉग तक ज़रूर पहुँचाएँ। यह कविता अंग्रेज़ी में यहाँ पढ़ी जा सकती है।

‘स्वयं हेतु’

एक
मैं अपनी डायरी में कुछ बेतरतीब शब्द लिखती हूँ
और कहती हूँ उसे बाइबिल
जिसमें ‘प्रेम’ अन्तिम शब्द है

दो
‘यकीन’ जैसे शब्दों के नीचे मैं लिखती हूँ तुम्हारा नाम
मैं नहीं चाहती तुम यकीन करना छोड़ दो
ऐसे प्रत्येक शब्द के तले, अंकित है-
“टूटे भरोसे फलते हैं और अधिक प्रेम में..”

तीन
अब पता है मुझे कि क्यों तुम मेरी डायरी का अन्तिम शब्द कभी नहीं पढ़ पाते
तुम अनजान हो इसके अर्थ से
मैं चाहूँगी अनजान ही रहो
इसीलिए नीचे प्रेम के, लिख देती हूँ- ‘पीर’

चार
बाइबिल अब एक टूटे भरोसों की किताब है
मैं बहुत ज़्यादा और तुम कुछ भी नहीं जानते इसके बारे में
क्योंकि तुम्हारे साथ बिताए गए वक़्त में
मेरे यकीन टूटते रहे
तुम्हारे, अक्षुण्ण

पाँच
मैं करती हूँ दुआ
और लिखती हूँ ‘उम्मीद’
कौन कहता है प्रेम केवल एक बार होता है

छः
देखो मुझे मिल गया
अपनी डायरी के आख़िरी पन्ने पर
मेरी उखड़ती चमड़ी
और टूटे पिंजर के नीचे
उम्मीद की ओट में मैंने लिख छोड़ा था- ‘स्वयं हेतु’

 

अनुवाद: पुनीत कुसुम

चित्र श्रेय: Amy Treasure


Puneet Kusum

नाम पुनीत कुसुम है, पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हूँ (जल्दी ही यह बताना बंद करना चाहूँगा) और स्वभाव से एक सामान्य इंसान जो भीतर के द्वंद और अंतर्विरोधों से पीछा छुड़ाने का माध्यम कविताओं को मान बैठा है। हिन्दी में पोस्ट ग्रॅजुयेशन ज़ारी है और अपनी कविताओं से लोगों तक पहुँचने के प्रयास भी। पढ़ने का शौक है और पढ़ते हुए जो रत्न मिल जाते हैं, उनको दुनिया तक पहुँचाने की ललक, और इसीलिए पोषम पा। इसके अलावा किसी विशिष्ट परिचय पर अधिकार नहीं है, जैसे होता जाएगा, बताते जाएँगे। :)

Leave a Reply

Related Posts

कविता | Poetry

कविता: मैं समर अवशेष हूँ – पूजा शाह

‘कुरुक्षेत्र’ कविता और ‘अँधा युग’ व् ‘ताम्बे के कीड़े’ जैसे नाटक जिस बात को अलग-अलग शैलियों और शब्दों में दोहराते हैं, वहीं एक दोस्त की यह कविता भी उन लोगों का मुँह ताकती है जो Read more…

कविता | Poetry

कविता: ‘तमाशा’ – पुनीत कुसुम

उन्मादकता की शुरुआत हो जैसे जैसे खुलते और बंद दरवाज़ों में खुद को गले लगाना हो जैसे कोनों में दबा बैठा भय आकर तुम्हारे हौसलों का माथा चूम जाए जैसे वो सत्य जिसे झुठलाने की Read more…

कविता | Poetry

“शदायी केह्न्दे ने” – रमेश पठानिया की कविताएँ

आधुनिक युग का आदमियत पर जो सबसे बड़ा दुष्प्रभाव पड़ा है वो है इंसान से उसकी सहजता छीन लेना। थोपे हुए व्यवसाए हों या आगे बढ़ जाने की दौड़, हम जाने किन-किन माध्यमों का प्रयोग Read more…

%d bloggers like this: