पुस्तक समीक्षा | Book Reviews

कॉरपोरेट कबूतर – कहानियों की मीठी गुटर-गूँ

अय्यारों से चलकर यथार्थवाद और फिर मनोविश्लेषणों तक आने वाली हिन्दी कहानी भी कभी केवल ‘कहानी’ ही रही होगी। जैसे हमारे बचपन में हमें सुनाए जाने वाली कहानियों की किस्में नहीं हुआ करती थीं, केवल Read more…

By Puneet Kusum, ago
error: