Tag: A poem for Qandeel Baloch

Sophia Naz

लड़की (क़ंदील बलोच के नाम)

पतले नंगे तार से लटकी जलती, बुझती, बटती वो लड़की जो तुम्हारी धमकी से नहीं डरती वो लड़की जिसकी मांग टेढ़ी है अंधी तन्क़ीद की कंघी से नहीं सुलझती वो लड़की जिसकी हर...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)