Tag: A poem on sneeze

Baba Ji Ki Chheenk - Ramapati Shukla

बाबा जी की छींक

घर-घर को चौंकाने वाली, बाबा जी की छींक निराली! लगता यहीं-कहीं बम फूटा, या कि तोप से गोला छूटा! या छूटी बंदूक दुनाली, बाबा जी की छींक निराली! सोया बच्चा...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)