Tag: Banaras

Kavita Mein Banaras

‘कविता में बनारस’ से कविताएँ

'कविता में बनारस' संग्रह में उन कविताओं को इकट्ठा किया गया है, जो अलग-अलग भाषाओं के कवियों ने अपने-अपने समय के बनारस को देख...

बनारस गली

बनारस की गालियाँ ऐसी हैं, जैसे एक खूबसूरत स्त्री के बेफ़िक्री से खुले बाल। कुछ सुनहरा रंग लिए हुए, कुछ काले सी कुछ रेल की पटरियों सी...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)