Tag: Bunkar

Neerav Patel

माँ! मैं भला कि मेरा भाई?

अनुवादः साहिल परमार तथा फूलचंद गुप्ता तुम्हारी चमर कौं-कौं से मैं तंग आ गई तुमने तो राग बिना ही नौटंकी कर रखी है तुम्हारे बाबा क्या गए तुमने...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)