Tag: Circus Poem

Maithili Sharan Gupt

सरकस

होकर कौतूहल के बस में, गया एक दिन मैं सरकस में। भय-विस्मय के खेल अनोखे, देखे बहु व्यायाम अनोखे। एक बड़ा-सा बंदर आया, उसने झटपट लैम्प जलाया। डट कुर्सी पर...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)