नव-लेखन | New Writing

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख ना जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ तो बढ़ने लगता Read more…

By Shiva, ago
error: