Tag: Letters

Qateel Shifai

तेरे ख़तों की ख़ुशबू

तेरे ख़तों की ख़ुशबू हाथों में बस गई है. साँसों में रच रही है ख़्वाबों की वुसअतों में इक धूम मच रही है जज़्बात के गुलिस्ताँ महका...
Upendranath Ashk, Rajkamal Chaudhary

उपेन्द्रनाथ अश्क का राजकमल चौधरी को पत्र

5, ख़ुसरोबाग़ रोड इलाहाबाद, 21-11-61 प्रिय राजकमल, तुम्हारा पत्र मिला। उपन्यास (नदी बहती है) की प्रतियाँ भी मिलीं। मैं उपन्यास पढ़ भी गया। रात ही मैंने उसे...
Letters

तुम्हारा होना

मैं भेज आया हूँ अपने ही पते पर तीन खत एक में तुम्हारा जाना लिखा दूसरे में तुम्हारा होना लिखा और तीसरे में तुम्हारा लौटना लिखा जब ये मेरे पास...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)