Tag: Sycophant

Manbahadur Singh

चापलूस

देख रहा हूँ तुम्हें कब से अपनी पीठ से झाड़ते हुए चाँदी की उस छड़ी की मार जो उस आदमी के हाथ में है जिसके गले में सोने...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)