पेट की खातिर

'पेट की खातिर' - विजय 'गुंजन' उन दोनों के चेहरों पर उदासी थी। आपस में दोनों बहुत ही धीमी आवाज…

Continue Reading

धुआँ

'धुआँ' - विजय गुँजन कारखानों के धुएँ का रंग, काला होता है क्योंकि, उसमें लगा है खून, किसी मरी हुई…

Continue Reading

विजय गुँजन के हाइकु

विजय गुँजन के हाइकु डॉ विजय श्रीवास्तव लवली प्रोफेशनल यूनिवसिर्टी में अर्थशास्त्र विभाग में सहायक आचार्य है। आप गांधीवादी विचारों…

Continue Reading

विजय ‘गुंजन’ की लघु कथाएँ

विजय 'गुंजन' की लघु कथाएँ डॉ विजय श्रीवास्तव लवली प्रोफेशनल यूनिवसिर्टी में अर्थशास्त्र विभाग में सहायक आचार्य है। आप गांधीवादी…

Continue Reading
Close Menu
error: