Tag: Wole Soyinka poem in Hindi

Wole Soyinka - Akinwande Oluwole Babatunde Soyinka

जुलियस न्येरेरे के प्रति

पृथ्वी के लिये पसीना राजस्व नहीं सत्व है मिट्टी के श्रम से यह संपन्न पृथ्वी माँगती नहीं कोई दान सत्व है पसीना पृथ्वी के लिये बेगार में अर्पित कोई सौगात नहीं है किले में...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)