एक आदमी ने अपने लिए लकड़ी का एक बड़ा सन्दूक मुंतख़ब किया; जब उसे उठाने लगा तो वो अपनी जगह से एक इंच भी न हिला। एक शख़्स ने जिसे शायद अपने मतलब की कोई चीज़ मिल ही नहीं रही थी, सन्दूक उठाने की कोशिश करने वाले से कहा, “मैं तुम्हारी मदद करूं?”

सन्दूक उठाने की कोशिश करने वाला इमदाद लेने पर राज़ी हो गया। उस शख़्स ने जिसे अपने मतलब की कोई चीज़ मिल नहीं रही थी, अपने मज़बूत हाथों से सन्दूक को जुंबिश दी और उठा कर अपनी पीठ पर धर लिया। दूसरे ने सहारा दिया। दोनों बाहर निकले।

सन्दूक बहुत बोझल था। उसके वज़न के नीचे उठाने वाले की पीठ चटख़ रही थी। टांगें दोहरी होती जा रही थीं, मगर इनाम की तवक़्क़ो ने इस जिस्मानी मशक़्क़त का एहसास नीम (अल्प/आधा) मुर्दा कर दिया था।

सन्दूक उठाने वाले के मुक़ाबले में सन्दूक को मुंतख़ब करने वाला बहुत ही कमज़ोर था। सारा रस्ता वो सिर्फ़ एक हाथ से सहारा दे कर अपना हक़ क़ायम रखता रहा। जब दोनों महफ़ूज़ मक़ाम पर पहुंच गए तो सन्दूक को एक तरफ़ रख कर सारी मशक़्क़त बर्दाश्त करने वाले ने कहा, “बोलो। इस सन्दूक के माल में से मुझे कितना मिलेगा।”

सन्दूक पर पहली नज़र डालने वाले ने जवाब दिया, “एक चौथाई।”

“बहुत कम है।”

“कम बिल्कुल नहीं, ज़्यादा है.. इसलिए कि सबसे पहले मैंने ही इस पर हाथ डाला था।”

“ठीक है, लेकिन यहाँ तक इस कमर तोड़ बोझ को उठा के लाया कौन है?”

“आधे आधे पर राज़ी होते हो?”

“ठीक है… खोलो सन्दूक।”

सन्दूक खोला गया तो उसमें से एक आदमी बाहर निकला। हाथ में तलवार थी। बाहर निकलते ही उसने दोनों हिस्सादारों को चार हिस्सों में तक़्सीम कर दिया।