वह कौन से ऐसे पल होते हैं जो हमारी आँखों में भर देते हैं विश्वास के आँसू और जहाँ जबरन चिपका दिए जाते हों तालू और जीभ के बीच की सुरंग में दोपहरी के भर्राए-से कुछ अलसाये स्मृतिगीत।

वह कौन सी ऐसी रातें होती हैं जब आँख लगी हो गहरी और स्लेट की छतों पर गिरते हों उल्कापिंड के गीले-गीले दीप, तुम रो देते हो एक पराये देश में, सोचते हो कि बाहर गिरता होगा पानी।

वह कौन सी ऐसी सुबहें होती हैं जब सूरज और चाँद हों बादलों की रज़ाई में लिपटे पड़े और उनके नीचे हो फैली इंद्रधनुषी चादर और तुम्हें हो भ्रम सूर्योदय की साँझ में, तीन लोमड़ियाँ हो तुमसे बातें कर रहीं।

अंकिता वर्मा
अंकिता वर्मा हिमाचल के प्यारे शहर शिमला से हैं। तीन सालों से चंडीगढ़ में रहकर एक टेक्सटाइल फर्म में बतौर मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव काम कर रही थीं, फिलहाल नौकरी छोड़ कर किताबें पढ़ रही हैं, लिख रही हैं और खुद को खोज रही हैं। अंकिता से ankitavrmaa@gmail.com पर सम्पर्क किया जा सकता है!