वह दीवाल के पीछे खड़ी है

‘वह दीवाल के पीछे खड़ी है’ – सुदीप बनर्जी

वह दीवाल के पीछे खड़ी है
दीवाल का वह तरफ़ उसके कमरे में है
जिस पर कुछ लिखा है
कोयले से

कोयले से की गयी हैं चित्रकारियाँ
वन-उपवन, पशु-पक्षी, देश-विदेश
सब उभर आये हैं
दीवाल पर

वह खड़ी है जहाँ ठीक वहीं
दीवाल के बाहर से फूट रहा है
पीपल का एक पौधा, उसकी फूटती आँखें
ठीक वहीं से दुनिया को देखती हैं

वह कोयले से आँक रही है दुनिया
दीवाल में अपनी तरफ़, दीवाल के बाहर
असली दुनिया झुलस रही है, पेड़ पौधों
बागड़ से लेकर दूर-दूर की इमारतें
नदी, पहाड़, झरने सब झुलस रहे हैं

एक अदृश्य आकाश से
टप-टप तारे गिरते हुए
एक गायब संसार के
अस्पर्श्य छलावे में
तमाम पड़ोस से अनसुनी
एक चीख पीछा कर रही है
भागते हुए कवि का
शब्दों के बीच जगह ढूँढती एक
पागल चील की प्यासी चीख

वह दीवाल के पीछे खड़ी है
उसे अभी किसी ने नहीं देखा है
कवि को भी इससे ज़्यादा
उसके बारे में क्या मालूम हो सकता है
जो सदियों से उसी तरफ़ खड़ी है
दीवाल के पीछे
गायब संसार की बेवजह नोक पर!

■■■

चित्र श्रेय: Luo ping

Random Posts:

Recent Posts

रुत

रुत

दिल का सामान उठाओ जान को नीलाम करो और चलो दर्द का चाँद सर-ए-शाम निकल आएगा क्या मुदावा है चलो…

Read more
आदत

आदत

कविता संग्रह 'लौटा है विजेता' से मरदों ने घर को लौटने का पर्याय बना लिया और लौटने को मर जाने…

Read more
नतीजा

नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: