वक़्त

एक कलम..

कुछ अलफ़ाज़..

हंसीं ख्वाहिशों की कश्मकश ।

बस ज़िन्दगी यूं ही कट रही..

कश-ब-कश ।