अनुवाद: पुनीत कुसुम

मेरे जैसी औरतें
बोलना नहीं जानतीं
एक शब्द उनके गले में चुभता है
उस कांटे की तरह
जिसे वे निगलना चुनती हैं

मेरे जैसी औरतें
विलाप के अलावा कुछ नहीं जानतीं
अशिष्ट विलाप
अचानक
घनघोर
एक कटी हुई धमनी की तरह

मेरे जैसी औरतें
वार सहती हैं
और वापिस वार करने की हिम्मत नहीं करतीं

वे क्रोध से कांपती हैं
उसे वश में करती हैं
जैसे शेर करते हैं पिंजरों में

मेरे जैसी औरतें
स्वप्न देखती हैं
आज़ादी का…

■■■