कविता

कहानी

स्त्री विमर्श

घर में अकेली औरत के लिए

तुम्हें भूल जाना होगा समुद्र की मित्रता और जाड़े के दिनों को जिन्हें छल्ले की तरह अँगुली में पहनकर तुमने हवा और आकाश में उछाला था, पंखों में बसन्त...

स्त्रियों के हिस्से का सुख

जब कि बरसों बाद स्त्रियों के हिस्से आया है पुरुषों के संग रहने का सुख तो फिर आँकड़े क्यूँ कह रहे हैं कि स्त्रियाँ सबसे अधिक उदास इन दिनों...

वसीयत

कुछ विरासत की वसीयत है मेरे नाम— कुछ को मैं ख़ारिज करती हूँ, कुछ को सौपूँगी अगली पीढ़ी की स्त्रियों को एक बाइस्कोप है घूँघट के रूप में जिसकी ओट से वही दिखाया...

दलित विमर्श

मैं आदमी नहीं हूँ

1 मैं आदमी नहीं हूँ स्साब जानवर हूँ दोपाया जानवर जिसे बात-बात पर मनुपुत्र—माँ चो, बहन चो, कमीन क़ौम कहता है। पूरा दिन बैल की तरह जोतता है मुट्ठी-भर सत्तू मजूरी में देता है। मुँह...

भयानक है छल : भाग-1

धूप तेज़ होने लगी थी आसमान में तैरने लगा हल्का-सा एक बादल सुदूर जंगल से घर लौटते हुए लकड़ी का गठ्ठर सिर पर उठाए तातप्पा के भीतर गहराता जा रही है अपनी...

मुझे ग़ुस्सा आता है

मेरा माँ मैला कमाती थी बाप बेगार करता था और मैं मेहनताने में मिली जूठन को इकट्ठा करता था, खाता था। आज बदलाव इतना आया है कि जोरू मैला...

ग़ज़ल

उद्धरण

30,939FansLike
9,495FollowersFollow
19,798FollowersFollow
514SubscribersSubscribe
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)