‘Aadi Sangeet’, a poem by Pushpendra Pathak

पता है?
हवा और पेड़
शाश्वत प्रेमी हैं

योगियों-से ध्यानस्थ वृक्ष
बुलाएँ न बुलाएँ
चूमती हैं हवाएँ उन्हें
झकझोरती हैं
नचाती भी

उठा ले जाती हैं
सूखें बेजान पत्तों को
देती हैं तोड़
अकड़ी शाखाएँ सब

टूटने,
झरने,
नाचने में
जो संगीत पैदा होता है
वह है प्रमाण
दोनों की रज़ामंदी का

मैं पेड़
तुम हवा
हाँ।

यह भी पढ़ें:

विनोद कुमार शुक्ल की कविता ‘प्रेम की जगह अनिश्चित है’
राहुल बोयल की कविता ‘आजकल प्रेम’
निराला की कविता ‘प्रेम-संगीत’
कुशाग्र अद्वैत की कविता ‘सारी सृष्टि प्रेम में है’

Recommended Book:

Previous articleशब्दों का पुल
Next articleप्राइवेसी
पुष्पेन्द्र पाठक
दिल्ली विश्वविद्यालय में शोधार्थी। Email- [email protected] Mobile- 9971282446

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here