ज़र प्रेम के बाद तुम्हारे आगोश में सिमटकर मासूमियत से सो जाना , जैसे किसी प्रेम पगी कविता की असाधारण अन्तिम पँक्ति लिखना।

– निधि नित्या

 

Previous articleदिव्य प्रकाश दुबे कृत ‘अक्टूबर जंक्शन’
Next articleसियाह औ सुफ़ैद से कहीं अधिक है यह ‘सियाहत’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here