आज सुबह ही
मिट्टी खोदी
घास उखाड़ी
पानी डाला
सुबह-सुबह की धूप देखकर
सही जगह पर क़लम लगायी
खीझ रहा था कई दिनों से
मन के भीतर
इस जीवन पर
अस्थिर होकर घूम रहा था कमरे-कमरे
क़लम लगाकर लेकिन सहसा ठहर गया मैं
लगा देखने
भीगा पौधा
धूप देखता
मिट्टी देखी
पानी देखा
खड़ा रहा मैं मुग्ध देर तक
कब फूटेंगे इसमें पत्ते
रहा सोचता रुका हुआ मैं
सुबह-सुबह मैंने मिट्टी में
जीवन बोया
खुशियाँ बोयीं
सपना बोया

सुबह-सुबह सींचा था
मैंने
अपने मन को!

सिद्धार्थ बाजपेयी की कविता 'सुना तुम मर गए, गई रात'

Book by Siddharth Bajpai:

Previous articleसचमुच बहुत देर तक सोए
Next articleदाह
सिद्धार्थ बाजपेयी
हिंदी और अंग्रेजी की हर तरह की किताबों का शौकीन, एक किताब " पेपर बोट राइड" अंग्रेजी में प्रकाशित, कुछ कविताएं कादम्बिनी, वागर्थ, सदानीराऔर समकालीन भारतीय साहित्य में प्रकाशित. भारतीय स्टेट बैंक से उप महाप्रबंधक पद से सेवा निवृत्ति के पश्चात कुछ समय राष्ट्रीय बैंक प्रबंध संस्थान, पुणे में अध्यापन.सम्प्रति 'लोटस ईटर '.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here