आँख

‘Aankh’, a poem by Harsha Dube

रोशनी सर्वत्र व्यापित
सत्य निरन्तर उपलब्ध
प्रकरण बस ये हैं…
मेरे भीतर एक ‘आँख’ हो।