‘Aankhon Ki Dhundh Mein’, Hindi Kavita by Bhuvaneshwar

आँखों की धुँध में उड़ती-सी
अफ़वाह का एक अजब मज़ाक है
यह पिघलते हुए दिल और
नमाई हुई रोटी का
हीरा तो खान में एक
प्यारा-सा फसाना है
किसी पत्थरदिल और
नम आँखोंवाली रोटी का
गरीबी के पछोड़ में
ग़म के दानों की रुत है
सब्र का बँधा हुआ मुँह
खुल जाएगा कल के अख़बारों में
बस और कुछ नहीं…

यह भी पढ़ें: भुवनेश्वर की कविता ‘रुथ के लिए’

Recommended Book:

Previous articleएक पुरानी कहानी
Next articleशेर की गुफा में न्याय
भुवनेश्वर
भुवनेश्वर हिंदी के प्रसिद्ध एकांकीकार, लेखक एवं कवि थे। भुवनेश्वर साहित्य जगत का ऐसा नाम है, जिसने अपने छोटे से जीवन काल में लीक से अलग किस्म का साहित्य सृजन किया। भुवनेश्वर ने मध्य वर्ग की विडंबनाओं को कटु सत्य के प्रतीरूप में उकेरा। उन्हें आधुनिक एकांकियों के जनक होने का गौरव भी हासिल है। एकांकी, कहानी, कविता, समीक्षा जैसी कई विधाओं में भुवनेश्वर ने साहित्य को नए तेवर वाली रचनाएं दीं। एक ऐसा साहित्यकार जिसने अपनी रचनाओं से आधुनिक संवेदनाओं की नई परिपाटी विकसित की। प्रेमचंद जैसे साहित्यकार ने उनको भविष्य का रचनाकार माना था।