मुझे अभी जीना है कविता के लिए नहीं
कुछ करने के लिए कि मेरी संतान मौत कुत्ते की न मरे

मैं आत्महत्या के पक्ष में नहीं हूँ तो इसलिए
कि मुझसे पहले मरें वे जो कि
मेरी तरह मरने को बाध्य हैं

कुछ नहीं करता हूँ मृत्यु के भय से मैं
सिर्फ़ अपमान से उनको बचाता हूँ
जिन्हें मृत्यु आकर ले जाएगी

दबे पाँव आहट को सुनता हूँ
और उसे शोर बनने नहीं देता हूँ

हाँ मैं कुछ करता हूँ जिसका
उपचार से कोई सम्बन्ध नहीं।

रघुवीर सहाय की कविता 'आत्महत्या के विरुद्ध'

Book by Raghuvir Sahay:

Previous articleसड़क पर रपट
Next articleदो लड़कियाँ
रघुवीर सहाय
रघुवीर सहाय (९ दिसम्बर १९२९ - ३० दिसम्बर १९९०) हिन्दी के साहित्यकार व पत्रकार थे। दूसरा सप्तक, सीढ़ियों पर धूप में, आत्महत्या के विरुद्ध, हँसो हँसो जल्दी हँसो (कविता संग्रह), रास्ता इधर से है (कहानी संग्रह), दिल्ली मेरा परदेश और लिखने का कारण (निबंध संग्रह) उनकी प्रमुख कृतियाँ हैं।