‘Aboojh Pyas’, a poem by Harshita Panchariya

तुमसे मिलने के बाद
मैं सोचती हूँ कि
अभी कितनी प्यास शेष है मुझमें

प्रेम के इस अरण्य में
मिले अथाह जंगली फूल,
अनंत अंतहीन बेलें,
जो मुझसे लिपटे रहना चाहती हैं
सदियों तक

फिर भी शेष है
दो पत्तियों के मध्य वह रिक्तता
जिनका भराव ओस की बूँदों
से ही सम्भव है।

ये ओस की बूँदें
चाँद के जाने का दुःख हैं
या रात्रि के अंतिम पहर
के सुख से आह्लादित स्वेद कण।

इस सुख-दुःख की गणना में
ये अरण्य इतना सूक्ष्म हो गया है
कि मुझे लगता है
मैं अपने पग तुम्हारी हथेली
पर ही धर पाऊँगी।

शायद फिर…
मुझे इस प्यास से विश्राम मिले।

यह भी पढ़ें: हर्षिता पंचारिया की कविता ‘प्रतीक्षित स्त्रियाँ’

Recommended Book:

Previous articleमुझको याद किया जाएगा
Next articleजन-गण-मन

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here