ऊपर से काली
भीतर से अपने चमकते दाँतों
की तरह शान्त धवल होती हैं वे

वे जब हँसती हैं फेनिल दूध-सी
निश्छल हँसी
तब झर-झराकर झरते हैं
पहाड़ की कोख में मीठे पानी के सोते

जूड़े में खोंसकर हरी-पीली पत्तियाँ
जब नाचती हैं क़तारबद्ध
माँदल की थाप पर
आ जाता तब असमय वसन्त

वे जब खेतों में
फ़सलों को रोपती-काटती हुईं
गाती हैं गीत
भूल जाती हैं ज़िन्दगी के दर्द
ऐसा कहा गया है

किसने कहे हैं उनके परिचय में
इतने बड़े-बड़े झूठ?
किसने?

निश्चय ही वह हमारी जमात का
खाया-पीया आदमी होगा
सच्चाई को धुन्ध में लपेटता
एक निर्लज्ज सौदागर

ज़रूर वह शब्दों से धोखा करता हुआ
कोई कवि होगा
मस्तिष्क से अपाहिज!

निर्मला पुतुल की कविता 'उतनी दूर मत ब्याहना बाबा' 

Book by Nirmala Putul:

Previous articleजिसके संग बाज़ार हो लिया
Next articleचिट्ठी
निर्मला पुतुल
निर्मला पुतुल (जन्मः 6 मार्च 1972) बहुचर्चित संताली लेखिका, कवयित्री और सोशल एक्टिविस्स्ट हैं। दुमका, संताल परगना (झारखंड) के दुधानी कुरुवा गांव में जन्मी निर्मला पुतुल हिंदी कविता में एक परिचित आदिवासी नाम है। निर्मला ने राजनीतिशास्त्र में ऑनर्स और नर्सिंग में डिप्लोमा किया है।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here