आदिवासी प्रेमी युगल

‘Adivasi Premi Yugal’, a poem by Joshnaa Banerjee Adwanii

वो झारखंड ज़िले के संथल से
बत्तीस किलोमीटर दूर ऊसर भूमि
पर वास करती है
आँखों में वहनि-सा तेज
सूरत से शतावरी
मंदाकिनी से होंठ
काकपाली सी आवाज़
जंगली पुष्पों के आभूषण पहन
शिलिमुख बन धँस जाती है
नवयुवकों की छाती में

और वो… श्याम वर्ण ओढ़े
जब अपने समुदाय संग
तटिनि पार करता है तो
सुरम्य लगता है…
शोभन वाटिका रचने की चाह में
देवों ने आदिवासियों का खेड़ा रचा
आदिवासी मानवों की श्रेणी के
सबसे शिथिल एंव वसुतुल्य
काननवासी हैं

इसी दल में जन्मी दो देहों ने
प्रेम के लावण्य से और चक्षु के
कुरूशिये से फुलकारी बुनी है
उनके पास कोई तकनीकी यंत्र
नहीं जिसमें वो दिन रात प्रेम पुष्कर
में नहान करें वरन् उनकी धरणी ही
एकमात्र सूत है जो दोनों को
समेटती है समीप

दलछाल की चटनी बना
वो अपने प्रेयस को खिलाती है
सबसे छिपकर
और वो उसे भेंट करता है
जंगली बैंगनी पुष्प
जिसे पाकर वो इन्द्राणी-सा
इठलाती है
रात्रि जलसे में वे दोनों जब
नृत्य करते है तो चन्द्रमा भी
सोलह कलाओं से
परिपूर्ण हो दमकता है

कामदेव के गन्ने के धनुष से
आहत है दोनों
प्रेम के सातों आसमानों की
सबसे ऊपरी तह के बादल पर
विराजित हो विचरण करते हैं
वो अपनी प्रेयसी के लिये
बाँस, टहनी और फूलों से
फूलमहल गणना चाहता है
मोक्षदायिनी देवी की प्रार्थना में
रख आया है मन की बात

और वो ख़ुद को विसर्जित कर
देना चाहती है उसके प्रेम पोखर में
उसके अंतिम स्मृति में
केवल उसके प्रेयस का वास है
हाँ उसका प्रेयस
पीले तपन में
सुरमयी सौम्य ब्यार के समान
छुपी ओट से टकटक करती
परिकल्पना के समान

उन जंगली गुफाओं में
अँधेरों की आँखें मध्यम
उजाला कर शरण देते हैं
प्रेमी युगल को
उनके पैरों तले लाल मिट्टी
उरवर्क बनकर बेलें खींच देती है
जहाँ वे दोनों
वही प्रणय की शहनाई

वे कभी एक होंगे या नहीं
ये देवों का निषकर्ष
वर्तमान ही उनकी मज़बूत शाखें
जिनपर झूल उनके पेटों में
गिलहरियाँ और तितलियाँ
फर-झड़ करते हैं
एक दूसरे के जालीदार ओट हैं
वे आदिवासी प्रेमी युगल…

यह भी पढ़ें: निर्मला पुतुल की कविता ‘आदिवासी लड़कियों के बारे में’

Book by Joshnaa Banerjee Adwanii: