‘Ajnabi’, a poem by Deepti Naval

अजनबी रास्तों पर
पैदल चलें
कुछ न कहें

अपनी-अपनी तन्हाइयाँ लिए
सवालों के दायरों से निकलकर
रिवाजों की सरहदों के परे
हम यूँ ही साथ चलते रहें
कुछ न कहें
चलो दूर तक

तुम अपने माज़ी का
कोई ज़िक्र न छेड़ो,
मैं भूली हुई
कोई नज़्म न दोहराऊँ,
तुम कौन हो
मैं क्या हूँ
इन सब बातों को
बस, रहने दें

चलो दूर तक
अजनबी रास्तों पर पैदल चलें।

यह भी पढ़ें: ‘कोई टाँवाँ-टाँवाँ रोशनी है’

Book by Deepti Naval:

Previous articleये दाढ़ियाँ, ये तिलक-धारियाँ नहीं चलतीं
Next article‘बकरसुरी’: लुइस कैरल की कविता ‘जैबरवॉकी’ का हिन्दी अनुवाद
दीप्ति नवल
दीप्ति नवल (जन्म 03 फरवरी, 1952) हिन्दी फिल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री हैं। वह जुनून, 'चश्मे बद्दूर', 'कथा' और 'साथ-साथ' जैसी कलात्मक एवं अर्थपूर्ण फिल्मों में अपने सशक्त अभिनय के लिए जानी जाती हैं। उनका व्यक्तित्व बहुआयामी है! वे कवयित्री और चित्रकार होने के साथ साथ एक कुशल छायाकार भी हैं!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here