उसका समय
मेरे समय से अलग है—
जैसे उसका बचपन, उसकी गुड़ियाँ-चिड़ियाँ
यौवन आने की उसकी पहली सलज्ज पहचान अलग है।

उसकी आयु
उसके एकान्त में उसका प्रस्फुटन,
उसकी इच्छाओं का सरस वसन्त
और उसके बिस्तर के पास
उठने की घण्टी बजाती घड़ी
उसका समय अलग है।

उसकी ऊब की दोपहर,
बारिश में भींगता
उसके दरवाज़े के पास का वृक्ष,
आकाश पर नहीं, पड़ोस की दीवार पर खुलती
उसकी खिड़की का समय अलग है।

अपने समय को वह फ़र्श पर बिछाती है
आँचल की तरह कसती है अपने शरीर से
घुँघरु की तरह अपने पैरों से बाँधती है।

अपने समय से मैं उसे पुकारता हूँ
अपने समय से वह मुझे बुलाती है।
हमारा समय अलग है
और साथ है।

अशोक वाजपेयी की कविता 'प्यार करते हुए सूर्य-स्मरण'

Book by Ashok Vajpeyi:

Previous articleप्रेम करना गुनाह नहीं है
Next articleमत कहो, आकाश में कुहरा घना है
अशोक वाजपेयी
अशोक वाजपेयी समकालीन हिंदी साहित्य के एक प्रमुख साहित्यकार हैं। सामाजिक जीवन में व्यावसायिक तौर पर वाजपेयी जी भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक पूर्वाधिकारी है, परंतु वह एक कवि के रूप में ज़्यादा जाने जाते हैं। उनकी विभिन्न कविताओं के लिए सन् १९९४ में उन्हें भारत सरकार द्वारा साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया। वाजपेयी महात्मा गांधी अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा के उपकुलपति भी रह चुके हैं। इन्होंने भोपाल में भारत भवन की स्थापना में भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।