वक़्त

वक़्त रुककर चल रहा है
मेरे बीच से गुज़रते हुए,
मैं देखता हूँ
कि कई सदियाँ गुज़र गयी हैं मुझसे होकर
मेरे समूचे अस्तित्व में
कोयले की कालिख लगी है
और वो षडयंत्र जो रचे गये महाभारत काल में
वो अब भी मेरा पीछा कर रहे हैं।

मेरे शरीर पर जम गये हैं चकत्ते वक़्त के
आप देखेंगे तो पायेंगे
उनमें से आती है गंध
आदिमानव द्वारा जलायी गयी आग पर
भूने हुए माँस की।

जैसे-जैसे ये वक़्त आगे बढ़ता जायेगा
मुझसे फूटने लगेंगी कोंपले आधुनिकता की
मैं सशरीर एक पेड़ बन जाऊँगा
एक बीज से फूटकर
और एक दिन जब मैं अपनी वृद्धावस्था में
आ जाऊँगा तो मुझे उखाड़ दिया जायेगा जड़ समेत
और फिर कर दिया जायेगा राख मुझे जलाकर
और जो कोयला उत्पन्न होगा
उसकी कालिख मेरे मुँह पर पुती है,
मुझे डाल दिया जायेगा किसी भापगाड़ी के इंजन में
और आप ध्यान से सुनेंगे तो पायेंगे
कि
भाप गाड़ी के हॉर्न से मेरी आवाज आती है
दबी-दबी सी।

गिरगिट

कई बार मुझे ये मालूम होते हुए भी
कि मुझे लूटा जा रहा है
मैं लुट बैठता हूँ।
और कई बार मैं देखता हूँ अन्याय
अगर किसी जगह
तो चल देता हूँ किसी अलग रास्ते,
या फिर अगर बहुत ज़रूरी हो वहीं से जाना
तो मैं अपनी आँख और कान बन्द करने की चेष्टा कर
वहाँ से निकल भागने की प्रक्रिया में लिप्त पाया जाता हूँ।

अगर निकल पड़ता हूँ, कभी किसी बेवकूफ़ की संगत में
जिसको सदियों पहले कहा जाता था ईमानदार व सम्वेदनशील
मैं उसको भी करता हूँ कोशिश
ख़ुद के जैसा बनाने की,
हालाँकि पहले मैं भी हुआ करता था ऐसा ही
लेकिन मैंने ढाल लिया है ख़ुद को
इस दौर के हिसाब से
अब मैं भी गिरगिट की तरह
रंग बदलने में माहिर हूँ।

Previous articleअन्धेर नगरी
Next articleआधा चाँद माँगता है पूरी रात
अंकुश कुमार
अंकुश कुमार दिल्ली में रहते हैं, इंजीनियरिंग की हुई है और फिलहाल हिन्दी से लगाव के कारण हिन्दी ही से एम. ए. कर रहे हैं, साथ ही एक वेब पोर्टल 'हिन्दीनामा' नवोदित लेखकों को आगे लाने के लिये संचालित करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here