पाषाणकाल से अब तक,
तुम ही हो जो मेरे साथ रहे हो।
तुम ही हो जिसने,
सिंधु नदी की गोद में,
मुझे और मेरे पूर्वजों को आश्रय दिया।
बाढ़ और सूखे से रक्षा करके,
तुम बन गए मेरे स्वामी,
तुम्हारे पसीने ने,
नमकीन बनाया मुझे, और तुम्हारे बैलों ने,
मेरे पाताल को मेरा आकाश बना दिया,
तुमने मेरे जीवन को हरियाली दी,
लोग भले तुम्हें किसान कहें,
पर खेतों ने तुम्हें स्वामी ही माना है।
अरे नहीं नहीं!
मैं समझ नहीं पाता,
मैंने तुम्हारी रक्षा की या तुमने मेरी।
मैं भटकता फिरता था जब,
भोजन की तलाश में,
तुमने मुझे अन्न दिया, और
स्थायित्व दिया मेरे जीवन को।
तुमने मृदा दी मेरे बैलों को,
श्रम करने के लिए।
और हाँ!
मेरी लाडली बिटिया है ना,
मुझे मट्ठा और गुड़ देने आती थी
धूप में,
उसके हाथ भी तो तुमने ही पीले किये।
तो मैं स्वामी नहीं,
साझेदार हैं हम दोनों एक दूसरे के,
और अंततः मिल जाना है मुझे भी
तुम में ही मिट्टी होकर!!

Previous articleज्योति
Next articleमैं अपने ही मन का हौंसला हूँ
दिव्य प्रकाश सिसौदिया
लेखक कविता लिखना अपना शौक ही नही धर्म मानते है। इतिहास विषय से स्नातक, परास्नातक, तथा यूजीसी नेट परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात इन्हें सिविल सेवा मुख्य परीक्षा देने का अवसर भी प्राप्त हुआ।इसके अतिरिक्त लगभग 8 वर्षो तक रामलीला में "लक्ष्मण" का अभिनय भी करते रहे है। बाकि इनका बेहतर परिचय कविताये ही दे सकती है। वर्तमान में लेखक उत्तर प्रदेश सरकार में " असिस्टेंट कमिशनर" के पद पर चयनित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here