वे सारे खीरे जिनमें तीतापन है हमारे लिए
वे सब केले जो जुड़वाँ हैं
वे आम जो बाहर से पके पर भीतर खट्टे हैं चूक
और तवे पर सिंकती पिछली रोटी परथन की
सब हमारे लिए
ईसा की बीसवीं शाताब्दी की अंतिम पीढ़ी के लिए

वे सारे युद्ध और तबाहियाँ
मेला उखड़ने के बाद का कचड़ा महामारियाँ
समुद्र में डूबता सबसे प्राचीन बंदरगाह
और टूटकर गिरता सर्वोच्च शिखर
सब हमारे लिए

पोलिथिन थैलियों पर जीवित गौवों का दूध हमारे लिए
शहद का छत्ता ख़ाली
हमारे लिए वो हवा फेफड़े की अंतिम मस्तकहीन धड़
पूर्वजों के सारे रोग हमारे रक्त में
वे तारे भी हमारे लिए जिनका प्रकाश अब तक पहुँचा ही नहीं हमारे पास
और वे तेरह सूर्य जो कहीं होंगे आज भी सुबह की प्रतीक्षा में
सबसे सुंदर स्त्रियाँ और सबसे सुंदर पुरुष
और वो फूल जिसे मना है बदलना फल में
हमारी ही थाली में शासकों के दाँत छूटे हुए
और ज़रा-सी धूप में धधक उठती आदिम हिंसा

जब भी हमारा ज़िक्र हो, कहा जाए
हम उस समय जिए जब
सबसे आसान था चंद्रमा पर घर
और सबसे मोहाल थी रोटी
और कहा जाए
हर पीढ़ी की तरह हमें भी लगा
कि हमारे पहले अच्छा था सब कुछ
और आगे सब अच्छा होगा।

अरुण कमल की कविता 'तुम चुप क्यों हो'

Book by Arun Kamal:

Previous articleवे बैठे हैं
Next articleमाँ का नमस्कार
अरुण कमल
अरुण कमल (जन्म-15 फरवरी, 1954) आधुनिक हिन्दी साहित्य में समकालीन दौर के प्रगतिशील विचारधारा संपन्न, सहज शैली के प्रख्यात कवि हैं। साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त इस कवि ने कविता के अतिरिक्त आलोचना भी लिखी हैं, अनुवाद कार्य भी किये हैं तथा लंबे समय तक सुप्रसिद्ध साहित्यिक पत्रिका आलोचना का संपादन भी किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here