अट नहीं रही है,
आभा फागुन की तन
सट नहीं रही है।

कहीं साँस लेते हो,
घर-घर भर देते हो,
उड़ने को नभ में तुम,
पर-पर कर देते हो,
आँख हटाता हूँ तो
हट नहीं रही है।

पत्तों से लदी डाल,
कहीं हरी, कहीं लाल,
कहीं पड़ी है उर में,
मंद-गंध-पुष्‍प माल,
पाट-पाट शोभा-श्री
पट नहीं रही है।

यह भी पढ़ें: निराला की कविता ‘जब कड़ी मारें पड़ीं’