1

बच्चा हँस रहा है

ठीक इसी वक़्त
अमरीका ने किया है
समुद्र के गर्भ में परमाणु परीक्षण

ठीक इसी वक़्त
फ़रमा रहे हैं ज़िया उल हक़
मैं ख़ुदा की मर्ज़ी से
गद्दी पर बैठा हूँ

ठीक इसी वक़्त
इंदिराजी ने बयान दिया है
विदेशी ख़तरा देश के सिर
मण्डरा रहा है

ठीक इसी वक़्त
आम आदमी के मूलाधिकार
स्थगित किए जाते हैं

बच्चा हँस रहा है!

2

बच्चा हँस रहा है

क्योंकि देखी नहीं दुनिया
उसने अभी

माँ-बाप, आँगन
दुनिया उसकी

माँ-बाप, आँगन से परे
कैसी दुनिया?

बच्चा चुप है!

3

बच्चा हँस रहा है
क्योंकि
सभ्यता ख़ामोश है!

4

बच्चा हँस रहा है
इस वक़्त
देखा जाए
तो सिर्फ़
हँसा ही जा सकता है!

5

बच्चा हँस रहा है
तानाशाह
मुँह छिपाए
भागा जा रहा है!

6

बच्चा हँस रहा है
लो एक बार फिर बची
यह दुनिया
मरघट में
बदलने से!

7

बच्चा हँस रहा है
फूल शायद
अब खिल रहे हैं!

नरेन्द्र जैन की कविता 'थोड़ी बहुत मृत्यु'

नरेन्द्र जैन की किताब यहाँ ख़रीदें:

Previous articleईश्वरीय चुम्बन
Next articleआने वालों से एक सवाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here