बारिश के बाद

बारिश के बाद
बबूल के पेड़ के नीचे से
अपनी बकरियों को हाँक
वह मुझसे मिलने आई।
दूर नीम के पेड़ तले।

नीम पर बैठी चिड़ियों ने
उसका स्वागत किया
चहचहाते हुए।
तोते ने उसके सौन्दर्य की
तारीफ़ की मुझसे।
कबूतरों ने पंख फडफड़ायें
और उससे निवेदन किया –
“वो उन पर विश्वास कर सकती है,
अपना संदेश भिजवाने के लिए”
गिलहरियाँ फुदकीं
और उसकी चोटी पर से उतर गईं।

अब मेरी बारी थी

मैंने नीम की डाली झुकाकर प्रेम प्रकट किया।
कुछ कच्ची निबोरियाँ मोतियों-सी
कुछ सफेद-झक्क फूल
आ खिले उसके बालों में।
पत्तियों को उसके गाल रास आये।

कुछ बारिश की बूँदे
जो ठहरी हुई थी फूल-पत्तियों पर
हम-दोनों पर एक साथ गिरी,
हम दोनों कुछ देर भीगते रहे,
बारिश के बाद की उस बारिश में।

यह भी पढ़ें:

सतीश चौबे की कविता ‘नई बदली के इश्तिहार’
विजय राही की कविता ‘बारिश और मैं’