बे-ख़याल बैठा हूँ इस लरज़ती रात में। जैसे अभी-अभी एक तारा टूटकर अकेला हुआ है। आसमान में छमकते हैं बचे हुए लहरदार तारे – जो अनगिनत अकेले हैं।

इस शीतलहर अब और नहीं निहार सकता आसमान मैं। खिड़की बंद कर कमरे में बल्ब जलाना चाहता हूँ। तीन साल पहले कही कोई बात बल्ब के भीतर झिलमिलाने लगती है। आवाज़ से अधिक आवाज़ रोशनी की है।

अभी-अभी मित्र ने भेजी है एक अंडरप्लाट, जिसे पढ़ते हुए बेचैनी है कि दृश्य में कोई उठान नहीं दिखती। दृश्य की बेचैनी शायद खिड़की के बाहर छूट गई है।

मैं बिस्तर पर लेट गया हूँ और लेटा ही रहूँगा- बेनियाज़। कोई हाथ होने थे यहाँ, जिन्हें जोड़ मैं घटा लेता खिड़की तक का फ़ासला।

मुझे लगता है कि खिड़की खोलूँगा अबकी तो बाहर आसमान नहीं होगा और एक बेतरतीब बारिश के बीच मैं अपनी निगाहें मूँद बे-ख़याल रहूँगा।

यह भी पढ़ें: विशेष चंद्र नमन की कविता ‘बंदिश’

Recommended Book:

Previous articleधिक्कार
Next articleहम भारत के लोग और हमारा संविधान
विशेष चंद्र ‘नमन’
विशेष चंद्र नमन दिल्ली विवि, श्री गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज से गणित में स्नातक हैं। कॉलेज के दिनों में साहित्यिक रुचि खूब जागी, नया पढ़ने का मौका मिला, कॉलेज लाइब्रेरी ने और कॉलेज के मित्रों ने बखूबी साथ निभाया, और बीते कुछ वर्षों से वह अधिक सक्रीय रहे हैं। अपनी कविताओं के बारे में विशेष कहते हैं कि अब कॉलेज तो खत्म हो रहा है पर कविताएँ बची रह जाएँगी और कविताओं में कुछ कॉलेज भी बचा रह जायेगा। विशेष फिलहाल नई दिल्ली में रहते हैं।