बेसहारों का इंतिज़ाम करो
यानी इक और क़त्ल-ए-आम करो

ख़ैर-ख़्वाहों का मशवरा ये है
ठोकरें खाओ और सलाम करो

दब के रहना हमें नहीं मंज़ूर
ज़ालिमो जाओ अपना काम करो

ख़्वाहिशें जाने किस तरफ़ ले जाएँ
ख़्वाहिशों को न बे-लगाम करो

मेज़बानों में हो जहाँ अन-बन
ऐसी बस्ती में मत क़याम करो

आप छट जाएँगे हवस वाले
तुम ज़रा बे-रुख़ी को आम करो

ढूँढते हो गिरों पड़ों को क्यूँ
उड़ने वालों को ज़ेर-ए-दाम करो

देने वाला बड़ाई भी देगा
तुम समाई का एहतिमाम करो

बद-दुआ दे के चल दिया वो फ़क़ीर
कह दिया था कि कोई काम करो

ये हुनर भी बड़ा ज़रूरी है
कितना झुक कर किसे सलाम करो

सर-फिरों में अभी हरारत है
इन जियालों का एहतिराम करो

साँप आपस में कह रहे हैं ‘हफ़ीज़’
आस्तीनों का इंतिज़ाम करो!