अनुवाद: पुनीत कुसुम

“हास्य का अनुवाद करना सबसे कठिन है।”

 

“दुनिया उन लोगों में विभाजित हैं, जो साथ रहते हैं और जो छोड़ जाते हैं।”

 

“सुस्ती भी एक तरह का विलास है।”

 

“भारत में, असावधानी के वास्तविक परिणाम मिलते हैं; ड्राइवर्स जो सड़क पर चलने वालों की जान ख़तरे में डालते हैं, घटनास्थल पर ही पीटकर मार दिए जा सकते हैं।”

 

“एक किसान अपने नियन्त्रण से बाहर बहुत सारी चीज़ों पर निर्भर करता है; यही बात उसे विनम्र बनाती है।”

 

“अध्यापकों का काम प्रेरित करना नहीं, तो क्या था?”

 

“ख़त्म होते प्यार को बढ़ते हुए प्यार से अलग पहचानना कठिन है।”

 

“घुमक्कड़ को हर जगह घर-सा महसूस होता है, क्योंकि वह कभी भी घर पर नहीं होता।”

 

“हम चीज़ें तब करते हैं जब उन्हें करने का हमारा वक़्त आ जाता है। जब तक उनका वक़्त न हो, वे हमारे सामने नहीं आतीं; एक बार उनका वक़्त आ जाए, तो उन्हें रोका नहीं जा सकता। यह समय का मसला है, नियत का नहीं।”

 

“मेरी ज़िन्दगी, मेरी ज़िन्दगी को वर्णन करने की क्षमता से थोड़ी अधिक जटिल हो गई है।”

Previous articleकृष्ण
Next articleबौछार पे बौछार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here