भय

‘Bhay’, a poem by Raghuvir Sahay

कितनी सचमुच है यह स्त्री
कि एक बार इसके सारे बदन का एक व्यक्ति बन गया है
उसके बाल अब घने काले नहीं
दुःख उसे केशों का नहीं है
वह उदास नहीं डरी हुई है, अधेड़ है, औरत है
सुन्दर है
होनी की तस्वीर एकदम उसके मन में चमक गई है इस क्षण
वह जवानी में बहुत कष्ट उठा चुकी है
अब वह थोड़े-थोड़े लगातार स्नेह के बदले
एक पुरुष के आगे झुककर चलने को तैयार हो चुकी है
वह कुछ निर्दय पुरुषों को जानती है जिन्हें
उसका पति जानता है
और उसे विश्वास है कि उनसे वह पति के ही कारण
सुरक्षित है
वह हाथ रोककर एकटक देखती है हाथ
फिर पहले से धीमी कंघी को बालों में फेर ले जाती है उनके सिरे तक…

यह भी पढ़ें: ‘बड़ी किसी को लुभा रही थी चालिस के ऊपर की औरत’

Book by Raghuvir Sahay: