कोई गिला तुझसे
शिकायत कुछ नहीं है
तेरी ही तरह मैंने भी
लिखे हैं ऐसे अफ़साने
निहायत पाक-तीनत, बे-ख़ता
मासूम करैक्टर तराशे
फिर उनको दर्द, नाकामी, ग़म व हसरत
सज़ाएँ और रुसवाई अता की है

कभी उनको चढ़ाया
बे-गुनाही की सलीबों पर
कभी तन्हाइयों के
अन्धे ग़ारों में धकेला है
कभी ख़ुद उनके सीने में
उतारे उनके ही हाथों से वह ख़ंजर
ज़ख्म जिनके
मुंदमिल हो ही नहीं सकते

मगर चारा भी क्या था?
हर अफ़साने को
अफ़साना बनाने के लिए यह सब
हमें करना ही पड़ता है

तेरी मजबूरियाँ
गर मैं न समझूँ
कौन समझेगा?
मुझे जिस तरह भी
तूने लिखा है
ख़ूब लिक्खा है!

Previous articleगौरव सोलंकी कृत ‘ग्यारहवीं ए के लड़के’
Next articleभाई, छेड़ो नहीं, मुझे

3 COMMENTS

  1. […] बिल्क़ीस ज़फ़िरुल हसन की नज़्म ‘मैं’ ज़ेनेप हातून की कविता ‘मैं’ हर्षिता पंचारिया की कविता ‘मैं चाहती हूँ’ यशपाल की कहानी ‘तुमने क्यों कहा था, मैं सुन्दर हूँ’ […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here