बू

मैंने एक जगह रुक के डेरा डाला
मैंने चाँद सितारों को देखा
मैंने जगह बदल दी
मैंने दिशाओं को जाना
मैं अब ख़ानाबदोश हूँ
मैं नख़लिस्तानों के ठिकाने जानती हूँ
मैं अब प्यासी नहीं रहती
मैंने सीखा कि एक चलती हुई चींटी एक ऊँघते हुए
बैल से जीत सकती है
मुझे बन्द दीवारों से बू आती है

मैं सोयी
मैंने सपना देखा कि जीवन एक सुगन्धित घाटी है
मैं जगी
मैंने पाया जीवन काँटों की खेती है
मैंने कर्म किया और पाया कि उन्ही काँटों ने
मेरा गन्दा ख़ून निकाल दिया
मैंने स्वस्थ रहने का रहस्य जाना
मुझे आरामदायक सपनों से बू आती है

मैं दुखी हुई
लोगो ने सांत्वना दी और बाद में हँसे
मैं रोयी
लोगों ने सौ बातें बनाई
मैंने कविता लिखी
लोगों ने तारीफ़ें की
मेरे दुख और आँसू छिप गये
मैं जान गई कि लोगों को दुखों के कलात्मक
ढाँचे आकर्षित करते हैं
मुझे आँसुओं से बू आती है

मैंने बातूनियों के साथ समय बिताया
मैंने शान्त रहना सीखा
मैंने कायरों के साथ यात्रा की
मैंने जाना कि किन चीज़ों से नहीं डरना
मैंने संगीत सुना
मैंने अपने आस-पास के अनन्त को भर लिया
मैं एकाकीपन में अब झूम सकती हूँ
मुझे ख़ुद के ही भ्रम से बू आती है

मैंने अपने बच्चों को सर्कस दिखाया
मुझे जानवर बेहद बेबस लगे
मैंने बच्चों से बातें की
उनकी महत्वकांक्षाओं की लपट ऊँची थी
मैंने उन्हें अजायबगर और पुस्तकालय में छोड़ दिया
अब वे मुझे अचम्भित करते हैं
मैंने जाना कि बच्चों के साथ पहला क़दम ही
आधी यात्रा है
मुझे प्रतिस्पर्धाओं से बू आती है

मुझे दोस्तों ने शराब पिलायी
मैंने नक्सली भावों से खुद को भर लिया
मैंने जलसे देखे
मैंने अपना अनमोल समय व्यर्थ किया
मैं ख़ुद ही मंच पर चढ़ गई
मेरे दोस्त मुझ पर गर्व करते हैं
मैंने जाना कि सम्राट सदैव पुरुष नहीं होते
मुझे ख़ुद की आदतों से बू आती है

मुझे कठिनाईयाँ मिली
मैंने मुँह फेर लिया
मैंने आलस बन आसान डगर चुनी
मुझे सुकून ना मिला
मैंने कठिनाईयों पर शासन किया
मेरी मेहनत अजरता को प्राप्त हुई
मैंने देखा कठिनाई अब भूत बन मेरे
पीछे नहीं भागती
मुझे बैठे हुए लोगों से बू आती है

मैंने प्रेम किया
मैंने दारुण दुख भोगा
मैंने अपने प्रेमी को दूसरी औरतों से अतरंगी
बातें करते देखा
मैं जलती रही रात भर
मैंने प्रेम को विसर्जित कर दिया
प्रेम ईश्वर के कारखाने का एक मुद्रणदोष है
प्रेम कुष्ठ रोग और तपैदिक से भी भयंकर
एक दिमाग़ी बीमारी है
मुझे उस पल से बू आती है
जब मैंने प्रेम किया…

यह भी पढ़ें:

मोहम्मद अल्वी की नज़्म ‘मछली की बू’
मंटो की कहानी ‘बू’
नामवर सिंह की कविता ‘पकते गुड़ की गरम गंध से’
शेखर जोशी की कहानी ‘बदबू’
बालकवि बैरागी की कविता ‘अपनी गंध नहीं बेचूँगा’